लगातार पांचवीं बार ब्याज दरों में कटौती का आरबीआई ने किया एलान

त्योहारी मौसम में रिजर्व बैंक ने देश के लोगों को बड़ा तोहफा देते हुए ब्याज दरों में कटौती की है, जिसके चलते आने वाले समय में आपके होम लोन और कार लोन की ईएमआई कम हो सकती है. रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति की चालू वित्त वर्ष के दौरान चौथी बैठक हुई. तीन दिन चली समीक्षा बैठक के बाद रिजर्व बैंक गवर्नर शक्तिकांत दास ने एलान किया कि प्रमुख नीतिगत दर रेपो में 0.25 प्रतिशत की कटौती की जा रही है.

रेपो दर में कटौती से बैंकों को रिजर्व बैंक से सस्ती नकदी उपलब्ध होगी और वह आगे अपने ग्राहकों को सस्ता कर्ज दे सकेंगे. इससे आने वाले दिनों में मकान, दुकान और वाहन के लिए कर्ज सस्ता हो सकता है. भारतीय स्टेट बैंक सहित ज्यादातर बैंकों ने अपनी कर्ज दरों को सीधे रेपो दर में होने वाली घट-बढ़ के साथ जोड़ दिया है.

इस कैलेंडर वर्ष में लगातार पांचवीं बार प्रमुख नीतिगत दर में कटौती की गई है. 2019 में सबसे पहले फरवरी में रेपो दर में 0.25 प्रतिशत, उसके बाद अप्रैल में भी 0.25 प्रतिशत, जून में भी 0.25 प्रतिशत और अगस्त में रेपो दर में 0.35 प्रतिशत की कटौती की गई. अक्टूबर में की गई ताजा 0.25 प्रतिशत कटौती के साथ पांच बार में कुल 1.35 प्रतिशत कटौती की जा चुकी है. इस कटौती के साथ रेपो दर 6.50 प्रतिशत से घटकर 5.15 प्रतिशत पर आ गई रिवर्स रेपो दर भी इतनी ही कटौती के साथ 6.25 प्रतिशत से घटकर 4.90 प्रतिशत रह गई है. अब रेपो दर करीब एक दशक के निचले स्तर पर आ गई है. इससे पहले मार्च 2010 में रेपो दर पांच प्रतिशत पर थी. सीमांत स्थायी सुविधा (एमएसएफ) बैंक दर में भी इस अनुपात में कटौती की गई है.

रिजर्व बैंक ने कहा है कि जहां तक जरूरी होगा वह आर्थिक वृद्धि से जुड़ी चिंताओं को दूर करने के लिए मौद्रिक नीति के मामले में उदार रुख बनाए रखेगा.

रिजर्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष के लिये आर्थिक वृद्धि के अनुमान को भी घटाकर 6.1 प्रतिशत कर दिया. पिछली समीक्षा में इसके 6.9 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया गया था. मुद्रास्फीति के मुद्दे पर मौद्रिक नीति समिति ने सितंबर तिमाही के अपने अनुमान को मामूली बढ़ाकर 3.4 प्रतिशत कर दिया, जबकि दूसरी छमाही के लिए मुद्रास्फीति 3.5 से 3.7 प्रतिशत के दायरे में रहने का अनुमान बरकरार रखा है. आर्थिक वृद्धि की गति बढ़ाने के लिए सरकार की तरफ से उठाए गए कदमों का समिति ने स्वागत किया है और इसे सही दिशा में उठाया गया कदम बताया.

 

Full Story at DD News

Enter your email address:

Tags:

We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply