बिहार में बाढ़ से मरने वालों की संख्या हुई 80

बिहार में बाढ़ और भारी बारिश के बाद लोगों की समस्या जस की तस बनी हुई है। बाढ़ और बारिश से जुड़ी घटनाओं में मरने वालों की संख्या बढ़कर 80 हो गई। राज्य में गंगा समेत सोन, पुनपुन, बूढ़ी गंडक, बागमती, अधवारा समूह, कोशी, महानंदा और परमान नदी के जलस्तर में बढ़ोत्तरी होने के कारण ये नदियां उफान पर है और खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। वहीं पटना में पुनपुन नदी का जलस्तर घटने लगा है। अभी भी 14 जिलों के 22 लाख से ज्यादा की आबादी बाढ़ से अभी भी प्रभावित है। राज्य के अलग-अलग इलाकों में एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की 25 टीमें लगातार राहत और बचाव कार्य में जुटी है। बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए 56 राहत शिविर और 366 सामुदायिक रसोई घरों का संचालन किया जा रहा है।

पटना शहर के कुछ इलाकों में जमा पानी घट गया है वहीं राजेंद्रनगर इलाके में अभी भी जलजमाव की स्थिति बनी हुई है। राज्य में डेंगू, चिकनगुनिया और मलेरिया के मामलों में भी बढ़ोत्तरी हुई है। पटना मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में अब तक 775 डेंगू के मामलों की पुष्टि हो चुकी है। पिछले 24 घंटों में डेंगू के 170 नए मरीज पीएमसीएच में भर्ती हुए है। राज्य सरकार  डेंगू के मरीजों के इलाज के लिए विशेष व्यवस्था कर रही है इसके लिए अस्पतालों में विशेष वार्ड बनाए गए है और ब्लड बैंक में प्लेटलेट्स की भी व्यवस्था की जा रही है।

इस बीच संयुक्त सचिव जी. रमेश के नेतृत्व में केंद्र के छह सदस्यीय दल ने प्रदेश में भीषण बाढ़ से हुए नुकसान का आकलन किया।

Full Story at DD News

Enter your email address:

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      IndiaClicking - Buzzing News & Stocks