बिहार में बाढ़ के हालात में सुधार

बिहार में बाढ़ के हालात में सुधार हुआ है हालांकि कई जगहों पर दिक्कतें कायम हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने हवाई सर्वेक्षण कर हालात का जायजा लिया । पटना के पुनपुन नदी का जलस्तर बढने की वजह से रेलगाड़ियों की आवाजाही बाधित हुई है और कुछ रेलगाड़ियों के मार्ग में परिवर्तन किया गया है तो कुछ को स्थगित करना पड़ा है। पहले से ही भारी बारिश की मार झेल रहे पटना के निवासियों के लिए पुनपुन नदी बढ़ता जलस्तर ने दहशत पैदा कर दी है।

नदी के जलस्तर में हुई वृद्धि के कारण पुनपुन के निचले इलाकों में पानी भर चुका है। मुसलाधार बारिश से सबसे ज्यादा नुकसान पटना शहर को पहुंचा है। प्रमुख नगरों और चौराहों पर जलभराव की समस्या बनी हुई है। सरकार और प्रशासन ने पानी भराव और बाढ़ की चुनौतियों से निपटने के लिए सारी तैयारियां कर रखी है। प्रशासन की तरफ से पुनपुन, नौबतपुर, संपतचक, धनरुआ के ब्लॉक में एसडीआरएफ की 19 टीमें को नावों के के साथ तैनात किया गया है।

ग्रामीणों को खाने – पीने की दिक्कत न हो इसके लिए कई गांवों में सामुदायिक रसोई घर भी स्थापित किए गए है। लोगों के लिए राहत कि खबर ये है कि भले ही नदी के जलस्तर में बढ़ोतरी हो रही है लेकिन शहर के अंदर पानी धीरे धीरे कम हो रहा है। इस बीच केंद्र ने राष्ट्रीय आपदा राहत कोष के जरिए बिहार और कर्नाटक के लिए 1813.75 करोड़ रुपये की अतिरिक्त मदद मंजूर की है । केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में हुई उच्चस्तरीय बैठक में ये फैसला हुआ ।

गृहमंत्रालय के अनुसार इस साल मानसून के मौसम में करीब 1900 लोगों की मृत्यु हुई है जबकि 46 लोग अभी भी लापता है। इस बार बरसात में 22 राज्यों की करीब 25 लाख आबादी भारी बारिष से खासा प्रभावित हुई है।   इस बार 14.14 लाख हेक्टेयर फसल भी बर्बाद हुई है।  देश के कई राज्यों में अभी भी बारिश जारी है इस बार की बारिश ने 1994 के बाद से सभी रिकॉर्ड तोड़ दिये है।

Full Story at DD News

Enter your email address:

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      IndiaClicking - Buzzing News & Stocks