पीएम मोदी ने दिल्ली-आईआईटी के 51वें दीक्षांत समारोह को किया संबोधित

आईआईटी दिल्ली के 51वें दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने युवाओं को काम करने का नया मंत्र दिया. प्रधानमंत्री ने युवाओं को गुणवत्ता और विश्वसनीयता पर ध्यान देने, कभी समझौता ना करने और बड़े पैमाने पर नवाचार करने का मंत्र दिया. प्रधानमंत्री ने छात्रों से कहा कि देश में उनके लिए अपार संभावनाएं हैं और अपार चुनौतियां हैं, जिनके समाधान वो ही दे सकते हैं.

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज भारत अपने युवाओं को ease of doing business देने के लिए प्रतिबद्ध है, ताकि ये युवा अपने नवाचार से करोड़ों देशवासियों के जीवन में परिवर्तन ला सकें. प्रधानमंत्री ने युवाओं से आह्वान किया कि वो देशवासियों के Ease of Living पर काम करें.

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना का संकट काल दुनिया में बहुत बड़े बदलाव लेकर आया है. उन्होंने कहा कि कोविड के बाद की दुनिया में सबसे बड़ी भूमिका तकनीक की होगी. प्रधानमंत्री ने कहा कि कोविड-19 ने ये भी सिखाया है कि वैश्वीकरण महत्वपूर्ण है लेकिन साथ ही आत्मनिर्भरता भी उतनी ही जरूरी है.

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने दीक्षांत समारोह के मौके पर छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि साल 2020 न केवल कोविड महामारी की वजह से जाना जाएगा, बल्कि चुनौतियों को अवसर में बदलने के लिए भी जाना जाएगा. उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति भारत को ज्ञान की वैश्विक महाशक्ति के रूप में स्थापित करेगी.

आईआईटी दिल्ली के 51वें दीक्षांत समारोह में दो हजार से अधिक छात्रों को डिग्री प्रदान की गई. गौरतलब है कि आईआईटी दिल्ली इस साल अपनी स्थापना की हीरक जयंती मना रहा है.

Full Story at DD News

Enter your email address:

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      IndiaClicking - Buzzing News & Stocks