जेईई मेन्स प्रवेश-परीक्षा शुरू, कोविड-19 के मद्देनजर सख्त ऐहतियाती कदमों का रखा गया ख्याल

देश भर में कोविड से एहतियात और पूरे पुख्ता बंदोबस्त के बीच जेईई मेन की परीक्षा शुरू हो गई। दो पालियों में परीक्षा सुचारू रूप से संपन्न हुई और अभ्यर्थियों को किसी भी प्रकार की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा। परीक्षा केंद्रों पर की गई व्यवस्थाओं से अभ्यर्थी बेहद संतुष्ट नजर आए।

जेईई मेन परीक्षा के लिए इस बार परीक्षा केंद्रों की संख्या में काफी वृद्धि की गई है। ये परीक्षा देश के 234 शहरों के 660 परीक्षा केंद्रों पर आयोजित की जा रही है। परीक्षा में कुल 8 लाख 58 हज़ार अभ्यर्थी शामिल हो रहे हैं। परीक्षा में पर्याप्त सोशल distancing सुनिश्चित करने के मकसद से हर शिफ्ट में एक एक सीट छोड़कर अभ्यर्थियों को बैठाने की व्यवस्था की गई है, साथ ही पहले से तय 8 की बजाय 12 पालियों में परीक्षा कराने का निर्णय लिया गया है। अभ्यर्थियों के मांगने पर उन्हें फेस मास्क और ग्लव्स भी मुहैया कराए गए। साथ ही परीक्षा शुरू होने से पहले और समाप्ति के बाद सभी परीक्षा केंद्रों को पूरी तरह sanitize भी किया गया। NTA के नोएडा स्थित कमांड सेंटर से हर केंद्र में हो रही परीक्षा की निगरानी की गई। जेईई परीक्षा में हिस्सा लेने के लिए ओडिशा सरकार ने छात्रों को यातायात की सुविधा को मुहैया कराई है। वहीं जाजपुर में छात्रों को यातायात के साथ ही ठहरने की व्यवस्था भी मुहैया कराई गई।

जेईई  संयुक्‍त प्रवेश परीक्षा-जी और राष्‍ट्रीय पात्रता तथा प्रवेश परीक्षा-नीट में भाग लेने वाले विद्यार्थियों को मध्‍य और पश्चिम रेलवे के मुंबई उपनगरीय नेटवर्क के अंतर्गत विशेष उपनगरीय रेलगाडि़यों से यात्रा करने की इजाजत दे दी गयी है। इससे मुंबई और उसके आस-पास के इलाकों में रहने वाले 50 हजार से अधिक परीक्षार्थियों को अपने-अपने परीक्षा केन्‍द्रों तक समय से सुरक्षित रूप से पहुंचने में मदद मिलेगी। परीक्षार्थी अपने प्रवेश पत्र दिखाकर परीक्षा वाले दिन अपने माता-पिता या अभिभावक के साथ उपनगरीय रेलवे स्‍टेशन में प्रवेश कर सकेंगे। इसके लिए स्‍टेशनों में रेलवे और सुरक्षा से संबंधित अधिकारियों को निर्देश दे दिये गये हैं। महत्वपूर्ण रेलवे स्‍टेशनों में टिकट खरीदने के लिए अतिरिक्‍त काउंटर खोले जा रहे हैं और परीक्षार्थियों की सुविधा के लिए उपनगरीय रेलगाडि़यों के फेरे बढ़ाए जा रहे हैं। रेलवे ने लोगों से अपील की है कि परीक्षार्थियों, उनके साथ आए अभिभावकों और रेलवे के आवश्‍यक कर्मचारियों के अलावा अन्‍य लोग जी और नीट परीक्षाओं के दौरान अनावश्‍यक रूप से स्‍टेशनों में नहीं आएं। वहीं मध्य प्रदेश सरकार ने भी छात्रों को परीक्षा केंद्र तक पहुंचने के लिए यातायात की सुविधा उपलब्ध कराई है।

कोरोना संकट काल में जेईई मेन पहली बड़ी और महत्वपूर्ण राष्ट्रीय परीक्षा है। इससे पहले जेईई मेन परीक्षा दो बार, पहले अप्रैल और फिर जुलाई में कोरोना की वजह से स्थगित हो चुकी है। SC ऐसे में अभ्यर्थियों का एक साल बर्बाद होने से बचाने के लिए एजेंसी ने तमाम सुरक्षा मानकों का पालन करते हुए परीक्षा आयोजित करने का निर्णय लिया।

Full Story at DD News

Enter your email address:

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      IndiaClicking - Buzzing News & Stocks