कोविड-19 प्रतिक्रिया और प्रबंधन में मदद के लिए यूपी, हिमाचल व पंजाब में उच्च स्तरीय दल भेजने का केंद्र का फ़ैसला

ये तीन सदस्यीय दल उन जिलों का दौरा करेंगे, जहां कोविड के ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं और रोकथाम, निगरानी, जांच, संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण उपायों और कोविड संक्रमण के मामलों के कुशल नैदानिक प्रबंधन की दिशा में राज्य के प्रयासों में मदद करेंगे. केंद्रीय दल राज्यों का समय पर बीमारी की पहचान और उसके बाद के इलाज से संबंधित चुनौतियों से प्रभावी तरीके से निपटने में भी मार्गदर्शन करेंगे.

इससे पहले केंद्र सरकार ने हरियाणा, राजस्थान, गुजरात, मणिपुर, और छत्तीसगढ़ में उच्च स्तरीय दल भेजे थे. भारत में कोविड के कुल मामलों में सक्रिय मामलों (4,40,962) का प्रतिशत गिरकर 4.85 हो गया और यह पांच प्रतिशत के स्तर से नीचे बना हुआ है. बीमारी से उबरने की दर में भी सुधार आया है और रविवार को यह 93.69 प्रतिशत हो गया. पिछले 24 घंटे में 43,493 लोग कोविड से उबरे हैं जिसके साथ बीमारी से ठीक होने वाले लोगों की कुल संख्या बढ़कर 85,21,617 हो गई. बीमारी से उबरने के मामलों और सक्रिय मामलों के बीच का अंतर तेजी से बढ़ रहा है और इस समय यह 80,80,655 है.

26 राज्यों/केंद्र शासित क्षेत्रों में इस समय 20,000 से कम सक्रिय मामले हैं. सात राज्यों/केंद्र शासित क्षेत्रों में सक्रिय मामलों की संख्या 20,000 से 50,000 के बीच है जबकि महाराष्ट्र और केरल में यह संख्या 50,000 से ज्यादा है. बीमारी से उबरने के नए मामलों में से 77.68 प्रतिशत मामले 10 राज्यों/केंद्र शासित क्षेत्रों के हैं. ताजा मामलों में दिल्ली में कोविड से 6,963 लोग उबरे हैं. केरल और महाराष्ट्र में यह संख्या क्रमशः 6,719 और 4,088 है. नए मामलों में से 76.81 प्रतिशत मामले 10 राज्यों/केंद्र शासित क्षेत्रों के हैं. पिछले 24 घंटे में कोविड संक्रमण के 45,209 नए मामले सामने आए हैं.

पिछले 24 घंटे में दिल्ली में 5,879 मामले सामने आए हैं. केरल और महाराष्ट्र में कल क्रमशः 5,772 और 5,760 मामले सामने आए. देश के 15 राज्यों/केंद्र शासित क्षेत्रों में प्रति 10 लाख की जनसंख्या पर कोविड मामले के राष्ट्रीय औसत से कम मामले सामने आ रहे हैं. पिछले 24 घंटे में देश में 501 लोग कोविड से मारे गए जिनमें से 76.45 प्रतिशत मामले 10 राज्यों/केंद्र शासित क्षेत्रों के हैं.

कोविड से मौत के नए मामलों में से 22.16 प्रतिशत मामले दिल्ली के हैं, जहां बीमारी से 111 लोगों की मृत्यु हुई. महाराष्ट्र में यह संख्या 62, जबकि पश्चिम बंगाल में 53 दर्ज की गई. 13 राज्यों/केंद्र शासित क्षेत्रों में बीमारी से होने वाली मौत की दर राष्ट्रीय औसत दर (1.46 प्रतिशत) से ज्यादा है. वहीं 21 राज्यों/केंद्र शासित क्षेत्रों में प्रति 10 लाख की जनसंख्या पर मृत्यु, राष्ट्रीय औसत (96) से कम है. जबकि 14 राज्यों/केंद्र शासित क्षेत्रों में प्रति 10 लाख की जनसंख्या पर मौत, राष्ट्रीय औसत (96) से ज्यादा है.

Full Story at DD News

Enter your email address:

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      IndiaClicking - Buzzing News & Stocks