अनुच्छेद-370 के अधिकतर प्रावधानों को निरस्त किया जाना ”बहुप्रतीक्षित और उचित”: विदेश मंत्री

विदेश मंत्री एस जयशंकर पिछले एक सप्ताह से अमेरिका में थे और उन्होने अमेरिका के विदेशमंत्री, रक्षामंत्री औऱ राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार सहित कई महत्वपूर्ण व्यक्तियों से मुलाकात की. उन्होने अमेरिका के एक बड़े थिंक टैंक को संबोधित करते हुए कहा कि जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद-370 के अधिकतर प्रावधानों को निरस्त किया जाना एक ”बहुप्रतीक्षित और उचित” था. उन्होने कहा कि  पाकिस्तान से यही अपेक्षा थी कि वह इस निर्णय को चुनौती देने के लिए हर संभव कोशिश करेगा क्योंकि उसने कश्मीर में आतंकवाद भड़काने के लिए बड़ा निवेश किया हुआ है।

विदेश मंत्री ने एक शीर्ष अमेरिकी थिंक टैंक ‘द हैरीटेज फाउंडेशन’ में बुधवार को कहा कि भारतीय सुरक्षा बलों ने पांच अगस्त के फैसले के बाद से जम्मू-कश्मीर में अत्यंत संयम बरता है और उनका अनुमान है कि पाकिस्तान पिछले कई दशकों से जो कर रहा है, उसे जारी रखेगा। जयशंकर ने कहा, ”आप पाकिस्तानियों से क्या अपेक्षा करते हैं कि वे क्या कहेंगे? कि हम चाहते हैं कि शांति और खुशहाली लौट आए।” उन्होंने कहा, ”नहीं, वे ) ऐसा नहीं चाहेंगे। वे ऐसा परिदृश्य दिखाने की कोशिश करेंगे कि सब नष्ट हो गया है क्योंकि पहली बात तो यह है कि वे यही चाहते हैं और दूसरी बात यह है कि 70 साल से यही उनकी योजना रही है।”

Full Story at DD News

Enter your email address:

Tags:

We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply