उत्तर भारत के कई राज्यों में बाढ़ और बारिश का कहर

1 min


हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में जहां अब तक कम से कम 35 लोगों की जान चली गई, तो वहीं यमुना और उसकी अन्य सहायक नदियों में जलस्तर बढ़ने के कारण दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश में बाढ़ की चेतावनी जारी की गई है.

सबसे पहले बात हिमाचल प्रदेश की करें तो राज्य के कई हिस्सों में बारिश और भूस्खलन का कहर टूटा है. पिछले 24 घंटों के दौरान तेज बारिश से मरने वालों की संख्‍या बढ़कर 25 हो गई है. राज्य में बाढ़ और भूस्खलन के कारण कई सड़कों के बाधित हो जाने से अनेक हिस्सों में सैकड़ों लोग फंस गए. मौसम विज्ञान विभाग ने अगले 24 घंटों में राज्य के कुछ हिस्सों में बारिश जारी रहने का अनुमान व्यक्त किया है.

राज्य में पिछले दो दिन से जारी मूसलाधार बारिश के कारण बाढ़, भूस्खलन और पेड़ों के गिरने की कई घटनाएं हुई हैं. भारी बारिश और बाढ़ से राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-3 को क्षति पहुंची है. जिसके कारण मनाली से कुल्लू को जोड़ने वाला मार्ग आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गया है. उधर हमीरपुर में भारी बारिश से जनजीवन प्रभावित हुआ है.

खराब मौसम के मद्देनज़र शिमला, कुल्लू, बिलासपुर और सोलन जिले में सोमवार को सभी शैक्षणिक संस्थान बंद रहे. मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने राज्य के सभी उपायुक्तों को निर्देश दिया है कि वे स्थिति पर कड़ी निगरानी रखें और स्थानीय लोगों तथा पर्यटकों की सुरक्षा सुनिश्चित करें.

उत्तराखंड की बात करें तो उत्तरकाशी जिले के आराकोट तथा आसपास के क्षेत्र में रविवार को बादल फटने और भूस्खलन से मची तबाही में मरने वालों की संख्या सोमवार को 10 हो गई. बादल फटने और भूस्खलन की घटनाओं में आराकोट, माकुडी, मोल्डा, सनेल, टिकोची और द्विचाणु में कई मकान ढह गए थे. आईटीबीपी, एसडीआरएफ और एनडीआरएफ की टीमें राहत और बचाव कार्य में जुटी हुई हैं. एसडीआरएफ द्वारा राहत सामग्री वितरण की जा रही है.

पिछले दो दिनों में हुई भारी बारिश के चलते प्रदेश की सभी नदियां उफान पर हैं और हरिद्वार में गंगा खतरे के निशान को पार कर गई है. ऋषिकेश में गंगा के 340.22 मीटर जलस्तर पर बहने के कारण त्रिवेणी घाट जलमग्न हो गया मौसम विभाग द्वारा राज्य के अनेक स्थानों पर भारी बारिश की संभावना जताए जाने के मद्देनजर प्रदेश के 13 में से नौ जिलों में स्कूल, कालेज तथा अन्य शिक्षण संस्थान बंद रखे गए.

जम्मू में सांसें थाम देने वाले रेस्क्यू ऑपरेशन में वायुसेना के जवाबों ने तवी नदी में फंसे दो लोगों को बचा लिया. नदी में 4 लोग फंसे थे. दो अन्य लोगों को हेलिकॉप्टर से रस्सी लटकाकर बचाने की कोशिश की गई, लेकिन सीढ़ी टूट जाने से दोनों नदी में गिर गए. हालांकि बाद में वे किसी तरह पानी में तैरकर बाहर निकलने में कामयाब हो गए. इसके बाद सेना ने शेष बचे दो लोगों के लिए ऑपरेशन शुरू किया. सीमेंट के पिलर पर सहमे हुए बैठे दो और लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया.

पिछले कुछ दिनों से भारी बारिश के बाद पंजाब और हरियाणा के कई हिस्सों में बाढ़ जैसी स्थिति हो गई है. लुधियाना जिले के 10 गांवों में बाढ़ के पानी घुसने के बाद जिले के कुछ हिस्सों से लोगों को निकाला गया. रोपण जिले में बाढ़ के हालात हैं. सतलुज नदी में कई जगहों पर जलस्तर बढ गया है. नवांशहर में सेना ने राहत कार्य चलाकर पानी में फंसे लोगों को निकाला.

उत्तर प्रदेश में भी प्रयागराज और वाराणसी शहरों में गंगा और यमुना का जलस्तर तेजी से बढ रहा है. प्रयागराज के कई जगहों पर निचले इलाकों में पानी भर गया है.

दिल्ली की बात करें तो राजधानी में बाढ़ की चेतावनी जारी की गई है. निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को वहां से सुरक्षित स्थान पर जाने के लिए कहा है क्योंकि यमुना नदी में जलस्तर के खतरे के निशान को पार करने की संभावना है. हरियाणा के हथिनी कुंड बैराज से पानी छोड़े जाने के कारण ये हालात पैदा हुए हैं.  

फिलहाल तमाम राज्य बाढ़ और बाढ़ के खतरे से जूझ रहे हैं और एजेंसिंयां राहत के काम में लगी हैं.

Full Story at DD News


Like it? Share with your friends!

136
1.5k shares, 136 points

Comments

comments

Choose A Format
Meme
Upload your own images to make custom memes
Video
Youtube, Vimeo or Vine Embeds
Image
Photo or GIF
Gif
GIF format